Pari Ka Amal

Pari Ka Amal

Pari Ka Amal,”Agar aap pari ka amal karna chahte hai, to apka dil paak aur majboot hona bahut jaruri hai. Jab aap pari ko bulana chahte hai, to do baato ka hamesha dhyan rakhe. Pahli baat yeh hai, ki jab aap pari ki taskheer karna chahte hai, to pari darawani dikhai deti hai. Dusri baat Aap pari se dosti ki niyat se amal karege, to pari apko koi bhi nuksan nhi degi. Allah ki kisi bhi tarah ki makhlooq se dosti karne se pahle apko allah ko apna dost bana hona. apko Allah dost aap 5 waqt ki namaz aur zakat aada karke bana sakte hai.

अगर आप परी का अमल करना चाहते है, तो आपका दिल पाक और मजबूत होना बहुत जरुरी है. जब आप परी को बुलाना चाहते है, तो दो बातों का हमेशा ध्यान रखे. पहली बात यह है, की जब आप परी की तस्खीर करना चाहते है, तो परी डरावनी दिखाई देती है. दूसरी बात आप परी से दोस्ती की नीयत से अमल करेंगे, तो परी आपको कोई भी नुकसान नही देगी. अल्लाह की किसी भी तरह की मख्लूक़ से दोस्ती करने से पहले आपको अल्लाह को अपना दोस्त बना होना. आपको अल्लाह को दोस्त आप 5 वक़्त की नमाज़ और ज़कात अदा करके बना सकते है.

Is pari ki taskheer ke liye lazmi hai, ki aamil som salawat ka pabandi ho. Aur sharaa ka paband ho. Nafs ki jahiri aur baateeni pakizagi sharten avalīna hai. Aamil is ajeemat mubarka ko 7 yaum bila naga va parhez jamaali jalali ke sath 360 martba padhe. Awal v akhir durood shareef 11-11 martba lazmi hai. is amal me pari theesre ya pachave din bhi aa sakti hai. Magar 7 youm pure karna lazmi hai. bavhu pari se sharayat tei kar le. aur dobara milna ka tarika bhi puche. Pari se dosti karke usse sirf jaayaz kaam le. Amal niche likha gya hai.

इस परी की तस्खीर के लिए लाज़मी है, की आमिल सोम सलावत का पाबन्दी हो. और शरा का पाबंद हो. नफ़्स की जाहिरी और बातिनी पाकीज़गी शर्तें आवलीन है. आमिल इस अजीमत मुबारका को 7 यौम बिला नागा व परहेज़ जमालि जलाली के साथ 360 मर्तबा पढ़े. अवल व अखिर दुरूद शरीफ 11-11 मर्तबा लाज़मी है. इस अमल में परी तीसरे या पांचवे दिन भी आ सकती है. मगर 7 यौम पुरे करना लाज़मी है. बावहु परी से शरायत तै कर ले. और दोबारा मिलने का तरीका भी पूछे. परी से दोस्ती करके उससे सिर्फ जायज़ काम ले. अमल निचे लिखा गया है.

مہانی مہان مہین مہانی کری پیر دوستی یا سرخ پریوں کی ملکہ۔

Pari Ka 40 Din Ka Amal

Pari ka amal bachhe se lekar buzurg kar sakte hai. Amal ka tarika yeh hai, ki is amal ko aapne tanhai me maszid ke andar nisf raat ke kareeb kiya jata hai. 40 dino me is amal ko 125000 youn sawa lakh martba padhe. Khushaboo jalaye. Waqat mukarar par hi amal ko kare. parhez jalali aur jamali kare.

परी का अमल बच्चे से लेकर बुज़ुर्ग कर सकते है. अमल का तरीक़ा यह है, की इस अमल को आपने तन्हाई में मस्जिद के अंदर निस्फ़ रात के करीब किया जाता है. 40 दिनों में इस अमल को 125000 यौन सवा लाख मर्तबा पढ़े. खुशबू जलाये. वक़त मुकरर पर ही अमल को करे. परहेज़ जलाली और जमालि करे.

Akhiri din 3 din hazir hoge. Unme se tabe rahne ki kasam le hazrat shekh abdulkadir jilani rah. ki aur dobara bulane ke liye nishani mang le. Dorane amal hisar jarur kare. Hisar apko jismani karna hai. Hisar karne ka tarika sabse pahle 1 matrba durood shareef padhe. Uske baad 11 martba ayatul kursi padh kar apne upar dam kar dena hai.

आखिरी दिन 3 दिन हाज़िर होंगे. उनमे से तबे रहने की कसम ले हज़रात शेख अब्दुलक़ादिर जिलानी रह. की और दोबारा बुलाने के लिए निशानी मांग ले. दोराने अमल हिसार जरुर करे. हिसार आपको जिस्मानी करना है. हिसार करने का तरीका सबसे पहले 1 मर्तबा दुरूद शरीफ पढ़े. उसके बाद 11 मर्तबा आयतल कुर्सी  पढ़ कर अपने ऊपर दम कर देना है.

Sirf 5 Min Me Pari Ki Hazri Ka Amal

Hum apko bata de ki yeh amal sekado martba ka tazurba shuda amal hai. hazirat ruhaniyat aur hamzad v jinnat aur pari ko hazir karne aur usse hal talab masayal me imdad lene ke liye jel ko dakhna (bakhoor) roshan kare. Kundar safed’ post khashkhash’ smundar jhag’ loban’ jafran’ insan ki hadiya’ pisa nariyal’ junad bedastar. Yeh tamam cheeze ham vajan lekar safoof bana kar aur hisar kar ke bait kar thik raat 12 bje jalaye Aur nazara kare. apko darne ki bilkul jarurat nhi hai. bila khof v jantar amal jari rakhe.

हम आपको बता दे की यह अमल सेकड़ो मर्तबा का तज़ुर्बा शुदा अमल है. हाज़िरात रुहानियत और हमज़ाद व् जिन्नत और परी को हाज़िर करने और उसे हल तालाब मसायल में इमदाद लेने के लिए जेल को देखना (बख़ूर) रोशन करे. कुंदर सफ़ेद’ पोस्ट खशखश’ समुन्दर झाग’ लोबान’ जाफरान’ इंसान की हड़िया’ पिसा नारियल’ जुनैद बेदस्तार. यह तमाम चीज़े हम वजन लेकर सफूफ बना कर और हिसार कर के बैठ कर ठीक रात 12 बजे जलाये और नज़ारा करे. आपको डरने की बिलकुल जरुरत नहीं है. बिला ख़ौफ़ व जन्तर अमल जारी रखे.

Jaruri Note: izazat lena lazmi hai varna apki jaan ko bhi khatra ho sakta hai. sahabe musnnif mofallif par koi jimmedari aayab nhi hogi. lihaja amal karne se pahle izazat jarur le.

जरुरी नोट: इज़ाज़त लेना लाज़मी है वर्ना आपकी जान को भी खतरा हो सकता है. साहबे मुसन्निफ़ मोफलीफ पर कोई जिम्मेदारी आयब नही होगी. लिहाजा अमल करने से पहले इज़ाज़त जरूर ले.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *